Friday, 8 July 2011

Speak Asia Incoming News on 11 July 2011

According to Experts and Old Speak Asian's This Can Happened on After Launch of New Speak Asia Website.

Speak Asia Company Can Not Registered Till 10 of July 2011 : And Registrar of India Put Conditions for Registering Speak Asia Company  in India.
1. Speak Asia Have to pay all the money to their Members .
2. Get all the Money will be Given to Government .
Then Only Company Can Speak Asia Company Can Registered in India.
According to Experts Speak Asia can deposit this Money to government as in That case . It Will come after a Long Struggle From Government.

Means In That Case Speak Asia Have to ZERO the RP (Reward Points ) of Speak Asia Website E-Wallet Account. In Another Terms ... MONEY INVESTED IN SPEAK ASIA WILL NOT COME IN HARD CASH.

Our Advertisers ( This
Area You can Advertise Also )


Paid Surveys



Fraud Companies


Ram
Survey Fraud


Delhi Detectives


web designer in delhi


medical transcription from home

Wedding Planner


Water Level Controller

Delhi Stationery Suppliers

Office
Stationery


HP Cartridges Delhi

Delhi
Astrologers

Seo Company
India

Stationery
Shops

Stationery
Suppliers in Gurgaon

रजिस्टरार आॅफ कंपनीज ने स्पीक एशिया के भारत में पंजीकरण के लिए यह शर्त रखी है कि पहले वह अपने पैनलिस्टों की पुरानी देनदारियां पूरी तरह चुकता करे या फिर उस पर बची देनदारियों को सरकारी खाते में जमा करे तभी उसकी नई कंपनी का पंजीकरण भारत में हो सकेगा। 
जानकारेंा के मुताबिक पैनलिस्टों का पैसा सरकारी खजाने में जमा करवाना पैनलिस्टों के साथ बड़ा धोखा होगा क्योंकि तब पैनलिस्टों वह पैसा लंम्बी कानूनी प्रक्रिया के बाद ही मिल पाएगा जिसमें सालों का समय लग सकता है। दूसरा जब तक भारत में कंपनी का पंजीकरण नहीं हो जाता तब तक वह कोई वैध खाता यहां नहीं खोल सकती जिससे पैनलिस्टों को सीधा भुगतान करना संभव नहीं। यह सरकारी पेंच कंपनी के द्वारा पंजीकरण की दिशा में की जा रही तमाम जद्दोजहद पर पानी फेर सकता है। इन आरपी को समाप्त कर कंपनी की शून्य देनदारी साबित करना कंपनी के सामने बड़ी चुनौती है। कंपनी ने इस देनदारी को समाप्त करने के  अनेक संभव विकल्पों को खोल दिया है।

.कंपनी  के  न्यू  वेबसाइट  में  2  एवाल्लेट  रहेगा  एक  ओल्ड  एवाल्लेट  ओरे न्यू  एवाल्लेट  
न्यू  एवाल्लेट  में  न्यू  वेबसाइट   में  जो  हम  सुर्वे  भरेगे  या  न्यू  ज्वाइन  करायेगे  या  कोई  ओरे सौरसे  जो  कंपनी  लेकर  आरही  हा 
RP कमाने  करने   के लिए  ये  सभी  इन्कोमे  न्यू  एवाल्लेट  में  शो  होगा  ओरे  जैसे  ये  इन्कोमे  क्रेडिट  हो  जायेगा  इसका  बैंक रेकुएस्ट  दल  कर  हम  काश  माँगा  सकते  है . 

पर  जो  ओल्ड  एवाल्लेट  में  हम  सबका  RewardPoints पड़ा  है  उसे  हम  एक  साथ  पयौत  दल  कर  नहीं  माँगा  सकते  है . 
उसे  काश  करने  के  लिए  कंपनी  हम  को  ये  रस्ते  बताएगी .. 
(A) ओल्ड  RP का  PAYOUT हम  कंपनी  के  द्वारा  बताये  गए  हिसाब  से  ही  दल  पायेगे  . 
(B) या , कोई  न्यू  जोइनिंग  आती  है  तो  पिन  बनाकर  RP  को  काश  कर  सकते  है . 
(C)  रेलवे  ओरे  प्लेन  का  टिकेट  खरीद  कर  ओल्ड  रप  को  उसे  कर  सकते  है . 
(D) इन्सुरांस  ले  कर  RP को  उसे  कर  सकते  हैं 
(E) अगर  कोई  पंलिस्ट  कोई  कंपनी  के  लिए  एड्स  लेकर  आता  है  तो  पार्टी  
से  काश  लेकर  ADS के  लिए  कंपनी  में  उतना  का  अपना  RP उसे  कर  सकता  है . 
(F) कंपनी  जो  प्रोडक्ट  ला  रही  है  उसमे  से  कोई  प्रोडक्ट  आप  को  पसंद  
है  तो  उसे  आप  RP इस्तमाल  कर  खरीद  सकते  है .पर  ये  भी  न्यूज़  है  की  प्रोडक्ट  
खर्देने   में  RP  में इस्तमाल करने  का  कंपनी  के  तरफ  से  % का  कुछ  नियम  
रहेगा  किस  प्रोडक्ट  पर  कितना  होगा  न्यू  पॉपअप  में  आएगा .

5 Comments:

At 10 July 2011 at 03:46 , Blogger akhil said...

this is very very bad...i have invested 33000 and not get a single ruppee from the. now they are putting the conditions of hard cash.first they have to pay tha old ewallet money in cash.thse rules shud be for new and further panelists..nobody will trust on them again

 
At 12 July 2011 at 04:46 , Blogger loki said...

making fool to us.. if we purchase a product on 10% will be deducted from e-wallet and remaining 90% cash...cheating us....they placed on chiniese product their lable YUG.... nothing else.
Forget SpeakAsia

 
At 17 July 2011 at 04:24 , Blogger vijay singh said...

yug is german tecnology brand
search and find information

 
At 19 July 2011 at 08:43 , Blogger jitendra sharma said...

india goverment black mony ka KUCH TO KAR NAHI PA RAHI FIR SPEAK ASIA KE PHECH KYO PADI HA.

 
At 20 July 2011 at 08:09 , Blogger vijay singh said...

agar black money wapas aa gaya to petrol sasta ho jayega
corroupt log bhuke mar jayenge

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home